Best Place To Organise Katha-Haridwar

Book Bhagwat Katha, Ram Katha, Shiv Katha Online
April 18, 2018
Bhagwat Katha Organizer
July 28, 2018

Best Place To Organise Katha-Haridwar

हरिद्वार कहो चाहे हरद्वार। हरि का द्वार या हरि का दरवाजा है हरिद्वार।

हरिद्वार यानी देवभूमि-जहाँ देवता निवास करते है... ऐसी पावन भूमि है हरिद्वार। याद रहे कि #भागवतकथा को सुनने के लिए स्वयं देवता आतुर रहते हैं। अगर आप "हर के द्वार-हरिद्वार"में कथा का आयोजन करेंगे तो 33 कोटि देवी-देवता गण भागवत कथा श्रवण करेंगे और समस्त देवतागण कथा सुनकर प्रसन्न होंगे आपको अर्थात कथा आयोजक पर अनन्त कृपा बरसायेंगे।

हरिद्वार-पतित पावनी, पाप नाशनि माँ गंगा का पावन तट है।पर्वतों और मनोहर वादियों के बीच बसा हुआ मधुरम शहर है। यहां की वायु में सोंधी सी सुगंध है, कल कल अनवरत बहती गंगा की पवित्र धारा है। भारत ही नहीं अपितु विदेशों से आये हुये लाखों भक्तों श्रद्धालुओं का संगम है। यहां का प्राकृतिक सौंदर्य और वातावरण मन को हर लेता है... हमारी थकान और व्यथा पल में ही दूर हो जाती है। ऐसा अनुपम पावन स्थल है हरिद्वार।

हम आज आपको हरिद्वार गंगाजी में भागवत कथा करवाने के पुण्य लाभ से अवगत करा रहे हैं। असंख्य फ़ायदें हरिद्वार में कथा सत्संग करवाने और सुनने के-

1.हरिद्वार में#भागवत कथा करवाने और सुनने से जन्म जन्म के पाप नष्ट हो जाते है।

2.हरिद्वार में#bhagwatkatha आयोजन करवाने से जीवन की समस्त नकारात्मकता और अदृश्य अनिष्ट शक्तियां सदैव सदैव के लिये समाप्त हो जाती है।

3.मायापुरी हरिद्वार में भागवत पुराण कथा का आयोजन करवाने से मन और विचार शुद्ध हो जाते हैं।

4.एक पवित्र मान्यता के अनुसार हरद्वार में कुम्भ के कलश से अमृत की बूंदे छलक कर गई थी।

5.इसलिए आज हम कथा जैसे अमृत और गंगा तुल्य अमृत के मिलन करके पीड़ाहरण रसायन बना सकते हैं। जिससे कथा आयोजन कर्ताओं की पारिवारिक समस्याओं, व्याधि, गृहदोष, वास्तुदोष, कालसर्प दोष एवम पितृदोष से मुक्ति मिल सकेगी।

6.हरिद्वार ऋषियों और मुनियों की तपस्या स्थली रही है। इसलिए यहाँ भागवत कथा के आयोजन में इनकी सूक्ष्म आत्माएं हरि कथा सुनने को उपस्थित होगी।ये आत्मायें कथा सुनकर प्रफुल्लित होगी और हमें हजारों हजार वर्ष तक आनंदमय सुखद जीवन का आशीर्वाद प्रदान करेगी। हरिद्वार हिंदुओ का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल तो है ही साथ ही बद्रीनाथ और केदारनाथ जाने का मार्ग भी है। अर्थात भगवान बद्री विशाल यानी विष्णु एवं केदारनाथ मने देवादिदेव महादेव शिव से मिलाने का पवित्र पथ है।

ऐसे पवित्र तीर्थ धाम में अगर कोई बन्धु बहन जीवन एक ही भागवत कथा,रामकथा, शिवकथा या देवीभागवत कथा का आयोजन हरिद्वार में करवा दें तो जिंदगी स्वर्ग सी बन जाती है।

अब अवसर आपके हाथ....

पूज्य कमल किशोर जी शास्त्री, जोधपुर(राजस्थान)

हरिद्वार में कथा आयोजन के लिये संपर्क करें- 09928833333

#hamaresant sadhvi

www.hamaresant.com

Comments are closed.