Benefits of organizing Bhagwat Katha

#bhagwatkatha #भागवतकथा आयोजन के फ़ायदें/लाभ-

#हमारेसन्त#हमारेसन्तों के श्रीमुख से सुनों-भागवत कथा।कथा आयोजन करवाने के अनेक लाभ।
हर व्यक्ति जीवन में कभी भाई को फायदा पहुंचाता है तो कभी बहन को,तो कभी मित्र को। स्वार्थवश किसी न किसी को लाभ देने के लिए निरंतर चिंतन करता रहता है। किंतु जब व्यक्ति को स्वकल्याण या स्वानन्द परमार्थ भाव की प्राप्ति होती है तब जाकर भागवत कथा करवाने अर्थात भगवद चिंतन का विचार करने लगता हैं।
#भागवत कथा-ज्ञान, भक्ति और वैराग्य का पावन ग्रंथ है। वास्तव में भागवत कथा एक ऐसा सुपाच्य मीठा अमृत तुल्य फल है जिसका पान करने के बाद व्यक्ति अजर अमर हो जाता है। जिंदगी बेमिसाल चमतकृत हो जाती हैं।ईष्ट प्रबल हो जाता है।

हमारे संत साध्वी की कथा आयोजन के विविध लाभ इस प्रकार है-
1.भागवत कथा आयोजन से व्यक्ति के जीवन में खुशियों का उदय होता हैं।
2.दैनिक जीवन में या जीविका उपार्जन में किसी का अहित या दुःख पहुंचाने से प्राप्त हुये पापों का क्षय हो जाता है।
3.स्वयं और परिवार में व्याप्त नकरात्मकता का हमेशा हमेशा के लिये खत्म हो जाती हैं।
4.स्वयं और परिवार की कीर्ति जन जन में फैलने लगती हैं।
5.घर के देवता और पितरगण प्रसन्न होते है साथ ही अपने स्वर्गीय माता पिता को परम गति मिल जाती है।
6.कथा आयोजन से नौकरी और व्यापार में उन्नति और बरकत मिलने लगती हैं।
7.प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष शत्रुओं का शमन हो जाता हैं।
8.जन्मभूमि और कर्मभूमि के ऋण से कथाआयोजक उऋण हो जाता हैं।
9.व्यक्ति को अकाल मृत्यु का भय नही रहता।
10.आयोजन कर्ता को अहंकार और मोह जैसे दुर्गुणों से छुटकारा मिलता हैं।
11.भागवतकथा आयोजक और परिवार के चित्त शुद्धि होती हैं।
12.कथा आयोजनकर्ता को चारों धाम तीर्थों की यात्रा का पुण्य मिल जाता हैं।
13.कथाआयोजनकर्ता के तीनों ताप, दरिद्रता और दुर्भाग्य का निवारण हो जाता है।
14.आयोजक को सुख -समृद्धि-सौभाग्य व बल बुद्धि की अपार प्राप्ति होती है साथ ही अनायास लाभ होने लगते हैं।
15.श्रीमद्भागवतकथा के आयोजन से सौजन्यदाता को परम् तत्व की प्राप्ति हो जाती है जिससे मोक्ष का द्वार मिल जाता है। कौन नही चाहता मोक्ष???
अगर आप भी जीवन को धन्य करने के लिये भागवतकथा का आयोजन करवाना चाहते है तो आज ही संपर्क करें-
Call us #9928833333
लॉगिन www.hamaresant.com